Home / परवरिश / नवजात शिशुओं को सर्दी से कैसे बचाये ?

नवजात शिशुओं को सर्दी से कैसे बचाये ?

नवजात शिशुओं को सर्दी से कैसे बचाये

सर्दी आते ही माँ और बाप की चिंताए बहुत ज्यादा बढ़ जाती है,ऐसे मे नवजात शिशु और छोटे बच्चो को बहुत  ज्यादा देखभाल की जरुरत होती है । सर्दीयों मे बच्चो को इन्फेक्शन (infection) की वजह से बहुत ज्यादा परेशानी और बीमारी हो सकती है जैसे जुकाम ,खांसी और बुखार इत्यादि  । आज हम आपको कुछ ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारी देंगे जिनसे आप अपने शिशु को सर्दी से बचा सकते है और स्वस्थ रख सकते है,धयान देने योग्य कार्य निम्न प्रकार है

Healthy Kaise Rahe

१- शिशु की माँ को अपने खाने पिने का खास ध्यान रखना चाहिए ,अगर शिशु माँ का दूध पिता हो तो माँ को ठंडी चीजों का परहेज करना चाहिए ।   

२- शिशु को जब भी नहलाये धयान रखे की शिशु को हवा ना लगे अन्यथा सर्दी गर्मी होने की सम्भावना बढ़ जाती है ,इसीलिए बंद कमरे मे नहलाना उचित रहेगा । पानी ज्यादा गरम न ले ।

३- शिशुओं को बहार ले जाने से बचे ,अगर जाना आवशयक हो तो शिशु को गरम कपड़ो से अच्छी तरह ढक कर ले जाये ,जिससे उसे हवा न लगे ।

४- शिशुओं को निकलते हुए सूरज की रौशनी अर्थात पहली धुप की किरण बहुत जयादा फायदेमंद  होती है ।

५- शिशु को सुलाते समय धयान रखे की उसे साँस लेने मे दिक्कत न हो ,अर्थात उसका मुँह इतना खुला रखे की वो आराम से साँस ले सके,पूरा ढक कर न सुलाए । 

६- शिशु अगर पॉटी बहुत ज्यादा और बिलकुल पानी जैसी कर रहा हो तो उसे तुरंत डॉक्टर को दिखाए ,अपनी मर्ज़ी से दवाई न दे ।

७- शिशु अगर रोजाना की तरह एक्टिव न लगे या बहुत ज्यादा सुस्त लगे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाये ।

८- शिशु को कोमल और गरम कपडे ही पहनाये ,ज्यादा  टाइट कपडे न पहनाये ।

९- साफ़ सफाई का बेहद ध्यान रखे , गन्दगी से शिशु को बहुत जल्दी इन्फेक्शन हो जाता है , जिससे जुकाम, वायरल फीवर भी हो सकता है ।   

१०- शिशु को दस्त लगने पर उसे औ. आर. अस. (O R S ) घोल या नमक और चीनी का घोल भी दे सकते है (डॉक्टरी सलाह पर )  

  उपरोक्त सलाह को आप ध्यान रखेंगे  तो आप अपने शिशु को सर्दी से आसानी से बचा सकते है। फिर भी अगर शिशु बीमार हो जाये तो डॉक्टर को नियमित रूप से दिखाए और शिशु को गोदी मे ही ज्यादा रखे ,गोदी मे शिशु अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है । शिशु के टीको का भी ध्यान रखना अनिवार्य है ,जो अगर समय पर न लगे तो शिशु मे बीमारी और परेशानी होने के चान्सेस जयदा हो जाते है । शिशु के लिए नवंबर से फरवरी का समय बहुत ही जयादा देखभाल वाला होता है । इसलिए इस समय सर्दी से बचाव बहुत आवशयक  होता है

About healthykaiserahe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *