Home / Fashion / Health & Fitness / योग दिवस 2019: इन टिप्स को याद रखेंगे तो आसान हो जाएगा योग

योग दिवस 2019: इन टिप्स को याद रखेंगे तो आसान हो जाएगा योग

yoga diwas

योग की लोकप्रियता पिछले कुछ सालों में काफी बढ़ गई है। कई लोगों ने पहली बार योग करना शुरू किया है। हमारे परिचय का हर दूसरा व्यक्ति योग का अभ्यास कर रहा है। ऐसे में कई लोगों को लगने लगता है कि योग करना काफी आसान है। हालांकि, बता दें कि नए लोगों के लिए कई बार योग का अभ्यास करना काफी मुश्किल हो जाता है और वे इसकी निरंतरता नहीं बना पाते हैं।

आपको योग से क्या चाहिए

हम कई अलग-अलग कारणों से योग करने का फैसला कर सकते हैं। आप आध्यात्मिक विकास के लिए, या केवल अच्छी सेहत के लिए योग शुरू कर सकते हैं, या फिर आप योग बस किसी को फॉलो करते हुए कर रहे हैं? आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आपके लिए योग शुरू करने का कारण क्या है।

टीचर की लें मदद

हममें से कुछ लोग ऐसा महसूस नहीं करते हैं कि हम अपने दम पर योग का अभ्यास शुरू कर सकते हैं, और योग क्लास लेने के लिए स्टूडियो जा सकते हैं। कुछ लोग घर में ही अभ्यास शुरू करते हैं। दोनों विकल्प अच्छे हैं, लेकिन शुरुआत में उचित सलाह मिलने से आपको यह समझ आ जाएगा कि शुरुआत कहां से की जाए। एक टीचर आपको सलाह दे सकता है कि आपके वर्तमान स्वास्थ्य और शरीर की संरचना के आधार पर कौन सा काम करना है और कितनी बार करना है।

क्यों 21 जून को मनाया जाता है?-

क्या कभी आपने सोचा है कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है. इसके पीछे भी एक बेहद खास वजह छिपी है. दरअसल 21 जून उत्तरी उत्तरी गोलार्द्ध का सबसे लंबा दिन होता है, जिसे कुछ लोग ग्रीष्म संक्रांति भी कहकर बुलाते हैं. भारतीय परंपरा के अनुसार ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है. कहा जाता है कि सूर्य के दक्षिणायन का समय आध्यात्मिक सिद्धियां प्राप्त करने में बहुत लाभकारी होता है इसी वजह से 21 जून को ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ के रूप में मनाते हैं.

5 हजार सालों से योग भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा रहा है. योग न केवल आपके शरीर को रोगों से दूर रखता है बल्कि आपके मन को भी शांत रखने का काम करता है.

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल से हुई थी. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल से हुई थी.

आज पूरी दुनिया ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ मना रही है. 5 हजार सालों से योग भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा रहा है. योग न केवल आपके शरीर को रोगों से दूर रखता है बल्कि आपके मन को भी शांत रखने का काम करता है. आइए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस जुड़ कुछ रोचक जानकारियों से आपको रू-ब-रू कराते हैं.

कैसे हुई योग दिवस की शुरुआत-

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल से हुई. 27 सितंबर 2014 को पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में एकसाथ योग करने की बात कही थी. इसके बाद महासभा ने 11 दिसंबर 2014 को इस प्रस्ताव को स्वीकार किया और तभी से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस अस्तित्व में आया.

भारत के नाम दर्ज रिकॉर्ड-

21 जून 2015 को पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया. पहले योग दिवस पर भारत ने दो शानदार रिकॉर्ड भी बनाए थे. इस दिन पीएम मोदी ने 35 हजार से ज्यादा लोगों के साथ राजपथ पर योग किया था. पहला रिकॉर्ड 35,985 लोगों के साथ योग करना और दूसरा रिकॉर्ड 84 देशों के लोगों द्वारा इस समारोह में हिस्सा लेना.

About healthykaiserahe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *